हमें आपकी सहायता चाहिए 

पुस्तक निर्माण, छपाई व वितरण के लिए आर्थिक योगदान दीजिये

अपने बच्चों के लिए हम श्रेष्ठ्तम प्रयास करेंगे। ऐसा लक्ष्य साधने का मतलब है कि हम भारत की मातृभाषाओं में व स्थानीय सन्दर्भों में रची-बसी श्रेष्ठ्तम पुस्तकें बच्चों के लिए बनाएँगे।

आप यदि आँख बंद करके अपने बचपन की ओर लौट जाएँ तो हो सकता है कि आप को अपनी वो पहली किताब याद आएगी जिसमें आपको अपना घर-संसार नज़र आया था और जिसने आपकी कल्पनाशक्ति को जगाया था। जैसे जैसे आप प्रवीण पाठक बनते गए तब आपने शायद दुनिया के दूसरेहिस्सों के बारे में पढ़ना शुरू किया हो।

हम चाहते हैं कि हर बच्चे का अपनी पहली पुस्तकों के साथ ऐसा ही अनुभव हो -ख़ास तौर पर वो बच्चे जो अपने परिवारों में पहली बार औपचारिक शिक्षा से जुड़े हैं। जिस प्रकार उन्हें पोषक आहार की ज़रूरत है वैसे ही उन्हें श्रेष्ठ्तम पुस्तकों की ज़रूरत है जिससे वे हमेशा के लिए स्वायत्त पाठक बन सकें। अपनी मातृभाषा में धाराप्रवाह पढ़ना उनके लिए अन्य सभी विषय सीखने के लिए ज़रूरी है और समय आने पर हिंदी या अंग्रेजी जैसी भाषाएँ सीखने के लिए भी।

सुन्दर चित्रों से सजी कहानियाँ, कविताएँ व कथेतर साहित्य बच्चों को पढ़ने के आनंद से परिचित कराता है। ऐसी किताबों से वे अपने स्वायत्त चयन के आधार पर पढ़ने के कौशल का अभ्यास कर पाते हैं। वे अपनी राय बनाना सीखते हैं और उनकी मौखिक अभिव्यक्ति निखरती है। हम ऐसी किताबें ज़्यादा से ज़्यादा भारतीय भाषाओँ में प्रकाशित करेंगे और इनमें जनजातीय भाषाओँ को शामिल करने का भरसक प्रयास करेंगे। उनमें देश भर की कथा-कहानियों और अनुभवों की विविधता और अलग-अलग बचपनों की झलक देखने को मिलेगी।

सरकारी स्कूलों के शिक्षकों के लिए भी ऐसी पुस्तकों की ज़रूरत है जिनकी मदद से वे अपनी कक्षाओं की ज़रूरतों के अनुसार अपने शिक्षण को बेहतर बनाएँ। आज उनकी कक्षाओं में बच्चों में मातृभाषाओं की बहुतायत हो सकती है,अलग अलग परिवेशों के बच्चे हो सकते हैं,संभव है कि वे बच्चे नियमित रूप से स्कूल आने में असमर्थ हैं पर शिक्षक को ऐसे तरीके निकालने होंगे जिससे हर बच्चे का सीखना सुनिश्चित हो सके। हमारे प्रकाशन उन्हें व्यावहारिक साधन व नवीन विचार सुझाएँगे जिससे वे अपनी निरंतर परिवर्तनशील कक्षा की चुनौती को सहर्ष स्वीकारेंगे।

बच्चों के लिए विशेष रूप से तैयार सीखने की सामग्री ऐसे पन्नों की संख्या बढ़ाती है जिससे वे कुछ अर्जित करते हैं। आम तौर पर उनके परिवेशों में छपी सामग्री कम रहती है और उन्हें अपनी पाठ्य पुस्तक के अलावा बहुत कम पढ़ने को मिलता है। सरल सहायक सामग्री ज्ञानवर्धन के अन्य आयामों तक उनकी पहुँच बढाती है। यह सामग्री पाठ्यक्रम को ध्यान में रख कर बनायी जाती है और यह विद्यार्थी व शिक्षक दोनों के लिए ही अच्छी है। इसके दाम कम रखे गए हैं जिससे सभी आय वर्ग के लोग इसे ले सकें। हमारे प्रकाशनों की इस श्रेणी में दो कम दाम की पत्रिकाएँ शुरू की गयी हैं –चहक जो प्राथमिक कक्षाओं के लिए उपयुक्त है और मितवा जो माध्यमिक स्तर को ध्यान में रख कर प्रकाशित की जाती है।

हम आपके जैसे उदार और विचारशील व्यक्तियों को आमंत्रित करते हैं कि आप हमारे काम में आर्थिक योगदान दें। प्रकाशन की इन तीन धाराओं में पुस्तक विकास,छपाई व इनके वितरण की लागत के लिए हमें रकम दें। हम अपनी पुस्तकों के कॉपीराइट पन्नों पर हमारे न्यूनतम डोनेशन पैकेज की रकम मिलने पर आपके लिए दाता/आंशिक दाता की आभारोक्ति प्रकाशित करेंगे।

यदि आप छोटी रकम दे कर हमारे प्रयासों में सहायक होना चाहते/चाहती हैं तो हम इसे सहर्ष स्वीकार करेंगे। छोटी से छोटी रकम हमारी प्रकाशन धाराओं में पुस्तक विकास, छपाई व वितरण में लगाई जाएगी। हम अपनी वार्षिक रिपोर्ट में आपका/ आपकी कंपनी का उल्लेख करेंगे।

डोनेशन पैकेज

 

  • चहक (प्राथमिक कक्षाओं के लिए कम दाम की सीखने की पत्रिका) के 1 अंक के विकास के लिए योगदान: 50,000 रूपये 
  • मितवा (माध्यमिक कक्षाओं के लिए कम दाम की सीखने की पत्रिका) के 1 अंक के विकास के लिए योगदान: 75,000 रूपये
  • बच्चों या शिक्षकों के लिए दो भाषाओँ में एक पुस्तक के आंशिक विकास के लिए योगदान: 100,000 रूपये
  • हमारी सामग्री में आभारोक्ति के लिए न्यूनतम योगदान: 10,000 रूपये

 

 

आप इंटरनेट बैंकिंग या चेक के द्वारा हमें रकम भेज सकते हैं।

इंटरनेट ट्रांसफर 

अगले खंड में हमारे बैंक खाते की जानकारी का इस्तेमाल कर के आप पैसा ट्रांसफर कर सकते हैं। यह संपन्न हो जाने पर हमें इन चीज़ों का ब्यौरा info@mananbooks.in पर भेज दें: नाम, पता,पैन नंबर, दान की गयी रकम, ट्रांसक्शन का आई डी व बैंक का नाम जिससे हम सेक्शन 80 सी के तहत एक्सेम्पशन सर्टिफिकेट जारी कर सकें।

चेक 

चेक 'इग्नस पहल' के नाम से बनायें और हमें डाक या कूरियर द्वारा अगले खंड में दिए गए पते पर भेज दें। उसके साथ हमें निम्न ब्यौरा दें: नाम, पता, पैन नंबर, दान की गई रकम, चेक संख्या, तिथि, बैंक का नाम जिस से हम सेक्शन 80 सी के तहत एक्सेम्पशन सर्टिफिकेट जारी कर सकें।

ऑनलाइन डोनेशन 

नीचे दिए गए लिंक का इस्तेमाल कर हमारे ऑनलाइन डोनेशन पेज तक पहुँचें। आप हमारे पेमेंट गेटवे इंस्तामोजो पहुँचेंगे जहाँ आप सुरक्षित रूप से अपना ट्रांसक्शन कर सकेंगे।

 

पंजीकरण व वित्तीय जानकारी 

इग्नस पहल कम्पनीज एक्ट सेक्शन 25 के तहत एक गैर मुनाफासंस्था के रूप में पंजीकृत है। इग्नस पहल को दान में दी गयी रकम सेक्शन 80G के तहत टैक्स एक्सेम्पशन के लिए योग्य है। मनन बुक्स इग्नस ईआर जी के गैर मुनाफा अंग इग्नस पहल का हिस्सा है।

कंपनी की जानकारी 

नाम: IGNUS PAHAL

पता: ई एच /1/205,एल्डेको यूटोपिया। सेक्टर 93 ऐ,एक्सप्रेसवे,नॉएडा उत्तर प्रदेश, भारत, 201304
संपर्क दूरभाष : 01204235181

पैन नंबर: AADCI2847M
CIN
सिन: U80904UP2013NPL056968
80-G रजिस्ट्रेशन नंबर: CIT(E)/LKO/80-G/2015-16/272/3741

बैंक खाता नंबर: 50200004678046

बैंक नाम व शाखा: एच डी एफ़ सी बैंक लिमिटेड अंसल फार्च्यून आर्केड के ब्लॉक सेक्टर 18 नॉएडा उ. प्र 201301

IFSC: HDFC0000088

MICR: 110240014

Swift Code: HDFCINBB

Spread the Word:

इसे English (अँग्रेज़ी) में पढें