हम बनाएँगे एक ऐसा जहाँ जिसमें हर बच्चे को पढ़ने और सीखने का हक़ मिलेगा।

Read. Think. Learn

नयी पुस्तकें

चहक अंक 3

मितवा अंक 3

चहक अंक 2

मितवा अंक 2

ब्लॉग

  • सीखने के मौके और महौल बनाती हैं पुस्तकें

    By Surendra Prasad Singh on 10th जून 2019


    हर बच्चे को सीखने को मिले, उसकी आवश्यकता के अनुसार उचित मात्रा में और समय पर मिले। हर बच्चे के अंदर नियमित स्वयं पढ़ने-सीखने की जिज्ञासा इस रूप में पनपे वह स्वायत्त सीखने वाला बने और अपने आप पढ़ते-सीखते हुए अपने तय जीवन लक्ष्यों की ओर आगे बढ़ता रहे. उन्हें स्वयं के प्रयासों से हासिल करे। यह सब कुछ अच्छी पुस्तकों के ज़रिये  आसानी से हासिल किया जा सकता है.

    Continue Reading

  • Children reading books sitting on the ground in a village

    Tale of a story teller

    By Subir Shukla on 12th मई 2019


    Sometimes one’s naivete can produce the strangest of results. Mine brought me to use the spoken and written word with children in contexts where this is sometimes the only difference between worthwhile education or the lack of it.

    Continue Reading

Spread the Word:

इसे English (अँग्रेज़ी) में पढें